2 गेंदों पर 10 रन जैसी पारी के लिए ज्यादा प्रैक्टिस नहीं करते दिनेश कार्तिक, अपनाते हैं एक खास तरीका

भारत के फिनिशर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक के लिए ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरा टी20 मुकाबला राहत भरा साबित हुआ क्योंकि वे अपना काम करके लौटे। एक फिनिशर के लिए मैच जीतकर नाबाद लौटने का मतलब है कि जॉब पूरी हुई।

कार्तिक पिछले कुछ मैचों में सफल नहीं रह पा रहे थे और फिर पंत की मौजूदगी में उनके स्थान को लेकर भी बहस का दौर चल रहा है। ऐसे में डीके के लिए बेहद जरूरी है कि वे अंत में बची हुए पांच-सात गेंदों पर भी 200-300 के स्ट्राइक रेट से बैटिंग करते हुए नॉट आउट लौटे।

2 गेंदों पर एक चौका और एक छक्का जड़ते हुए 10 बनाए

कार्तिक ने दूसरे टी20 मुकाबले में 2 गेंदों पर एक चौका और एक छक्का जड़ते हुए 10 बनाए। इससे पहले रोहित 20 गेंदों पर 46 रनों की नाबाद पारी खेल चुके थे।

कुल मिलाकर भारत सीरीज में वापसी करने में सफल रहा और तीसरा मैच रविवार को अब रोमांचक हो चला है। नजरें एक बार फिर से कार्तिक बनाम पंत के मामले पर रहेंगी। इस बार तो भारत ने दोनों को प्लेइंग इलेवन में मौका दिया था। आगे देखना होगा क्या होता है।

 

ज्यादा प्रैक्टिस करने वाला खिलाड़ी समझा जाता है

मजेदार बात यह है कि जिस कार्तिक को बहुत ज्यादा प्रैक्टिस करने वाला खिलाड़ी समझा जाता है वह उतना भी अभ्यास नहीं करते हैं। कार्तिक केवल विशेष अभ्यास पर जोर डालते हैं।

खास शॉट और खास परिस्थितियों में बैटिंग करने की प्रैक्टिस। उन्होंने खुद इस बात का खुलासा ताजा पारी के बाद किया। कार्तिक जितनी बार फिनिशिंग करते हैं उतनी ही उनकी डिमांड और लोकप्रियता बढ़ती जाती है।

ज्यादा की जगह खास प्रैक्टिस पर जोर

दूसरे मैच में कार्तिक 8वें ओवर में आए और डेनियल सम्स की गेंद पर अपनी क्लास का फिर से प्रदर्शन किया। मैच के बाद कार्तिक ने कहा कि वे अपने रोल के लिए प्रैक्टिस करते रहे हैं।

उन्होंने आरसीबी के लिए आईपीएल में ऐसा किया और अब यहां पर ऐसा करके खुश हैं। ये उनके लिए रोजाना का रूटीन हो गया है। जब टाइम मिलता है तो वे अपने लिए ऐसी परिस्थितियां बनाते हैं और फिर बैटिंग करते हैं। जैसे 2 गेंदों पर 10 रन चाहिए।

 

कार्तिक ने खुलासा किया, आप जानते हैं को विक्रम राठौड़, राहुल द्रविड़ उस हिसाब से ढल चुके हैं जैसी मुझे प्रैक्टिस चाहिए। मैं इस बात को लेकर एकदम स्पष्ट रहता हूं कि मुझे किस तरह के शॉट्स खेलने हैं। मैं बहुत प्रैक्टिस नहीं करता, लेकिन कोशिश करता हूं कि यह स्पेशल टास्क को टारगेट करने वाली हो।

कप्तान की तारीफ करते हैं

रोहित ने ताजा मैच में जानदार बैटिंग की और कार्तिक कप्तान की तारीफ करते हैं। वे कहते हैं, जब मैं गया तो दो गेंद खेली। लेकिन रोहित ने जबरदस्त पारी खेली। इस विकेट पर, नई गेंद से वर्ल्ड क्लास गेंदबाजी के सामने ऐसे शॉट्स खेलना आसान बात नहीं है।

तभी तो रोहित वर्ल्ड क्रिकेट में इतने बड़े खिलाड़ी हैं। जिस तरह से वे फास्ट बॉलिंग खेलते हैं दूसरा कोई नहीं खेल सकता, और ये बात उनको बहुत ही खास बल्लेबाज बनाती है।

नागपुर की जीत ने सीरीज को लेवल करने का काम किया है अब बारी आई तो कार्तिक हैदराबाद में फिर से यही काम करना चाहेंगे जिसके लिए उनको नई पहचान मिल चुकी है।